वर्तमान में भारतीय संविधान में कितनी अनुसूचियां हैं ?

0
23 views

bhartiya samvidhan me kitne suchiya hai

दोस्तो आपने भारतीय संविधान में अनुसूचियो के बारे में तो कभी न कभी सुना ही होगा लेकिन हम आज अनुसूचियो के बारे में विस्तार से जानेंगे की वर्तमान में भारतीय संविधान में कितनी अनुसूचियां हैं और  संविधान लागू होने से पहले इसकी संख्या कितनी थी और इसे भारतीय संविधान में क्यों जोड़ी गई है तो हम आज बात करेंगे हमारे संविधान की अनुसूचियों की इस पोस्ट को अंत तक देखे यह आपके किसी भी एग्जाम के लिए  हेल्पफुल रहेगी।

भारतीय संविधान में कितनी अनुसूचियां है ? How many schedules are there in the Indian Constitution

भारत के मूल संविधान में पहले  8 अनुसूचिया थी लेकिन वर्तमान में भारतीय संविधान में 12 अनुसूचियाँ हैं। संविधान में 9वीं अनुसूची प्रथम संविधान संशोधन 1951, 10वीं अनुसूची 52वें संविधान संशोधन 1985, 11वीं अनुसूची 73वें संविधान संशोधन 1992 एवं बाहरवीं अनुसूची 74वें संविधान संशोधन 1992 द्वारा सम्मिलित किया गया है।

प्रथम अनुसूची: इसमें भारतीय संघ के घटक राज्यों (29 राज्य) एवं संघ शासित (सात) क्षेत्रों का उल्लेख है।

नोट:   संविधान के 69वें संशोधन के द्वारा दिल्ली को की राजधानी क्षेत्र का दर्जा दिया गया है।

द्वितीय अनुसूची:  इसमें भारत राज-व्यवस्था के विभिन्न पदाधिकारियों (राष्ट्रपति, राज्यपाल, लोकसभा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, राज्य सभा के सभापति एवं उपसभापति, विधान सभा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, विधान परिषद के सभापति एवं उपसभापति, उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों और भारत के नियंत्रक महालेखा परीक्षक  आदि को प्राप्त होने वाले वेतन भत्ते का उल्लेख किया गया है।

 नोट:   पदाधिकारियों के वेतन-भत्ते इन अनुच्छेदो के तहत दिए जाते है  59(3), 65(3), 75(6),97, 125,148(3), 158(3),164(5),186 ।

तृतीय अनुसूची:  इसमें विभिन्न पदाधिकारियों (राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, मंत्री, उच्चतम एवं उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों) द्वारा पद-ग्रहण के समय ली जाने वाली शपथ का उल्लेख है।

यह अनुच्छेद 75(4),99, 124(6),148(2), 164(3),188 और 219] – व्यवस्थापिका के सदस्य, मंत्री,  न्यायाधीशों आदि के लिए शपथ लिए जानेवाले प्रतिज्ञान के प्रारूप दिए हैं।

चौथी अनुसूची:   इसमें विभिन्न राज्यों तथा संघीय क्षेत्रों की राज्य सभा में प्रतिनिधित्व का विवरण दिया गया है. यह अनुच्छेद 4(1),80(2)] – राज्यसभा में स्थानों का आबंटन राज्यों तथा संघ राज्य क्षेत्रों से है।

पांचवीं अनुसूची:  इसमें विभिन्न अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजाति के प्रशासन और नियंत्रण के बारे में उल्लेख है यह अनुच्छेद 244(1) के तहद है।

छठी अनुसूची: इसमें असम, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम राज्यों के जनजाति क्षेत्रों के प्रशासन के बारे में प्रावधान है  छठी अनुसूची-अनुच्छेद 244(2), 275(1)] के तहत रखी गई है।

 सांतवी अनुसूची: इसमें केंद्र एवं राज्यों के बीच शक्तियों के बंटवारे के बारे में बताया गया है, इसके अन्तगर्त तीन सूचियाँ है- संघ सूची, राज्य सूची एवं सूची –

(1) संघ सूची इस सूची में दिए गए विषय पर केंद्र सरकार कानून बनाती है. संविधान के लागू होने के समय इसमें 97 विषय थे, वर्तमान समय में इसमें 98 विषय हैं।

(2)  राज्य सूची  इस सूची में दिए गए विषय पर राज्य सरकार कानून बनाती है. राष्ट्रीय हित से संबंधित होने पर केंद्र सरकार भी कानून बना सकती है. संविधान के  लागू होने के समय इसके अन्‍तर्गत 66 विषय थे, वर्तमान  में 62 विषय है।

(3) समवर्ती सूची इसके अन्‍तर्गत दिए गए विषय पर केंद्र एवं राज्य दोनों सरकारें कानून बना सकती हैं. परंतु कानून के विषय समान होने पर केंद्र सरकार  द्वारा बनाया गया कानून ही मान्य होता है. राज्य सरकार द्वारा बनाया गया कानून केंद्र सरकार के कानून बनाने के साथ ही समाप्त हो जाता है. संविधान के लागू होने के समय समवर्ती सूची में 47 विषय थे, वर्तमान समय में इसमें 52 विषय हैं.।

आठवीं अनुसूची:  इसमें भारत की 22 भाषाओँ का उल्लेख किया गया है. मूल रूप से आंठवीं अनुसूची में 14 भाषाएं थीं, 1967 ई० में सिंधी को और 1992 ई० में कोंकणी,मणिपुरी तथा नेपाली को आंठवीं अनुसूची में शामिल किया गया. 2004 ई० में मैथिली, संथाली, डोगरी एवं बोडो को आंठवीं अनुसूची में शामिल किया गया है यह अनुच्छेद 344(1), 351] के तहद्द है।

नौवीं अनुसूची: संविधान में यह अनुसूची प्रथम संविधान संशोधन अधिनियम, 1951 के द्वारा जोड़ी गई. इसके अंतर्गत राज्य द्वारा संपत्ति के अधिग्रहण की विधियों का उल्लेख किया गया है. इन अनुसूची में सम्मिलित विषयों को न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती है. वर्तमान में इस अनुसूची में 284 अधिनियम हैं।

 नोट:  अब तक यह मान्यता थी कि नौवीं अनुसूची में सम्मिलित कानूनों की न्यायिक समीक्षा नहीं की जा सकती. 11 जनवरी, 2007 के संविधान पीठ के एक निर्णय द्वारा यह स्थापित किया गया कि नौवीं अनुसूची में सम्मिलित किसी भी कानून को इस आधार पर चुनौती दी जा सकती है कि वह मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है तथा उच्चतम इन कानूनों की समीक्षा कर सकता है।

दसवीं अनुसूची: यह संविधान में 52वें संशोधन, 1985 के द्वारा जोड़ी गई है. इसमें दल-बदल से संबंधित प्रावधानों का उल्लेख है ।

ग्यारहवीं अनुसूची:  यह अनुसूची संविधान में 73वें संवैधानिक संशोधन (1993) के द्वारा जोड़ी गई है. इसमें पंचायतीराज संस्थाओं को कार्य करने के लिए 29 विषय दिए गए हैं।

बारहवीं अनुसूची: यह अनुसूची 74वें संवैधानिक संशोधन (1993) के द्वारा जोड़ी गई है इसमें शहरी क्षेत्र की स्थानीय स्वशासन संस्थाओं को कार्य करने के लिय 18 विषय प्रदान किए गए हैं।

दोस्तो जैसा कि हमने वर्तमान में भारतीय संविधान में कितनी अनुसूचियां हैं और किस अनुसूचियों में क्या निर्देश दिए गए है जो की सभी व्यक्ति के लिए लागू होते है  यदि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

Popular posts –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here