सोने की चिड़िया किसे कहा जाता है ?

0
22 views

bharat ko sone ki chidiya kyon kaha gaya

सोने की चिड़िया किस देश को कहा जाता है? क्या आप जानते हैं सोने की चिड़िया किसे कहा जाता है और भारत को सोने की चिड़िया किसने कहा और साथ ही भारत को सोने की चिड़िया किसने बनाया अगर आप इस विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को आप अंत तक पढ़े इसमें हमने सोने की चिड़िया किसे कहा जाता है पूरी जानकारी बताइए

सोने की चिड़िया किसे कहा जाता है ? 

प्राचीन काल में भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था क्योंकि भारत में अकूत धन सम्पदा मौजूद थी 1600 ईस्वी के आस-पास भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी 1305 अमेरिकी डॉलर थी जो कि उस समय अमेरिका, जापान, चीन और ब्रिटेन से भी अधिक थी इसी के कारण विदेशी आक्रान्ताओं और अंग्रेजों ने इस देश को अपना गुलाम बनाया था और अपर संपत्ति इस देश से लूटकर ले गये थे

भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था?

क्या आप जानते है भारत को सोने की चिड़िया किस राजा ने बनाया था प्राचीन भारत वैश्विक व्यापार का केंद्र था. प्राचीन काल में भारत, खाद्य पदार्थों, कपास, रत्न, हीरे इत्यादि के निर्यात में विश्व में सबसे आगे था. भारत उस समय विश्व का सबसे बड़ा विनिर्माण केंद्र था. कुछ लोग मानते हैं ।

 

कि भारत प्राचीन काल में केवल मसालों के निर्यात में आगे था, उनकी जानकारी के लिए यह बताना जरूरी है कि भारत मसालों के अलावा कई अन्य उत्पादों के निर्यात में भी अग्रणी देश था। भारत इतना विकसित देश था की उस समय भारत से दूसरो देशों के लिए वस्तुओ को निर्यात किया जाता था ।

 

जिसमे भोजन: कपास, चावल, गेहूं, चीनी जबकि मसालों में मुख्य रूप से  हल्दी, काली मिर्च, दालचीनी, जटामांसी इत्यादि शामिल थी इसके अलावा आलू, नील, तिल का तेल, हीरे, नीलमणि आदि के साथ-साथ पशु उत्पाद, रेशम, चर्मपत्र, शराब और धातु उत्पाद जैसे ज्वेलरी, चांदी के बने पदार्थ आदि निर्यात किये जाते थे

जैसा कि आप जानते है की 1000 मुगल आक्रमणकारियों के शासन के बाद भी, विश्व की जीडीपी में भारत की अर्थव्यवस्था का योगदान 25% के बराबर था इसी समय में अंग्रेजों ने भारत पर कब्ज़ा किया था लेकिन जब अंगेज भारत को छोड़कर गए तो भारत का विश्व अर्थव्यवस्था में योगदान मात्र 2 to 3% रह गया था, लेकिन आज भारत विश्व की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।

शूरवीर राजा विक्रमादित्य ने ही भारत को पहली बार सोने की चिड़िया का खिताब दिया था।

भारत को सोने की चिडिया किसने बनाया ?

महाराज विक्रमादित्‍य के शासनकाल में ही भारत सोने की चिडिया बन पाया था  और आपको बता दूं कि इस काल को भारतवर्ष का स्‍वर्णिम काल माना जाता है कहा जाता है कि आज हिंदुस्‍तान की संस्‍कृति और नाम केवल राजा विक्रमादित्‍य के कारण ही बन पाया है।

जैसा की आप जानते हो की विक्रमादित्‍य के 9 रत्‍नों में से एक थे कालिदास जिन्‍होंने अभिज्ञान शाकुन्‍तमलम् की रचना की थी। इस ग्रंथ में भारत का पूरा इतिहास समाहित है।

भारत को सोने की चिड़िया कहने के पीछे जो एक सबसे बड़ा कारण हुआ करता था, वो मयूर सिंहासन था इस सिंहासन की अपनी एक अलग ही पहचान हुआ करती थी कहा जाता था कि इस सिंहासन को बनाने के लिए जितना धन लगाया गया था, उतने धन में दो ताज महल का निर्माण किया जा सकता था लेकिन साल 1739 में फ़ारसी शासक नादिर शाह ने एक युद्ध जीतकर इस सिंहासन को हासिल कर लिया था।

मयूर सिंहासन का निर्माण शाहजहां द्वारा 17वीं शताब्दी में शुरू किया गया था. इतिहाकारों के अनुसार, मयूर सिंहासन को बनाने के लिए करीब एक हजार किलो सोने और बेश कीमती पत्थरों का प्रयोग किया गया था।

2000 वर्षा पहले भारत का व्यापार बहुत ही तेजी से चल रहा था, बहार के लोग भारत में आकर कपड़े खरीदते थे और सोना देकर जाते थे, इस तरह खेती और अन्य चीज में भी एसा ही होता था, इसी वजह से भारत के पास काफी मात्रा में सोना आया करता था. और यह भी एक वजह हे की  ये सोने की चिड़िया कहलाता था भारत अपनी शौरत के लिए प्रसिद्ध था इसके लिए उसको चिड़िया का घर भी कहा जाता है ।

दुनिया का 11% सोना भारतीय महिलाओं के पास पाया जाता है ।

भारत को सोने की चिड़िया गीत की रचना किसने की थी ?

राजेन्द्र कृष्ण जी द्वारा लिखा हुआ  मशहूर गीत  जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा वो भारत देश है मेरा ये गीत  हर साल 15 अगस्त को गया जाता है।

1500 A.D के आस-पास दुनिया की आय में भारत की हिस्सेदारी 24.5% थी जो कि पूरे यूरोप की आय के बराबर थी।

 

उम्मीद करते हैं इस पोस्ट में आपको जानकारी मिल गई हो सोने की चिड़िया किस देश को कहा जाता है और सबसे पहले भारत को सोने की चिड़िया किसने कहा था और भारत को सोने की चिड़िया किसने बनाया इन सभी प्रश्नों के उत्तर किस पोस्ट में हमने विस्तार से बताएं अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसको आप सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें

Popular Posts –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here