भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन कौन सी है ?

0
13 views

bharat ki sabse tej chalne wali train kaun si hai

दोस्तो आपने कभी न कभी तो ट्रेन का सफर किया ही होगा लेकिन क्या आप यह जानते हो की भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन कौन सी है ?  और यह भारत की सबसे तेज़ चलने वाली ट्रैन कितनी स्पीड से चलती है और किस किस के बीच चलती है। तो इन सब बातो तो जानने के लिए पोस्ट को पूरा पड़े।

भारतीय रेलवे एक विशाल नेटवर्क है। यह दुनिया के सबसे पुराने रेलवे नेटवर्को में से एक है। यात्रा करने के लिए ट्रेन सबसे अच्छा माध्यम है. यात्रा के दौरान हम प्रकृति की सुंदरता को बारीकी से निहार सकते है। भारतीय रेलवे में कई सारी गाड़ियों की श्रेणियाँ है। इनमे से एक श्रेणी सबसे तेज़ दौड़ने वाले ट्रेनों की है।

 

भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन कौन सी है? Bharat ki sabse tej chalne wali train kaun si hai

 

भारत में सबसे तेज़ गति से चलने वाली ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस है। भारत के रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने आज देश की सबसे पहली सेमी-हाईस्पीड ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया ।

 

गतिमान एक्सप्रेस कब चली ?

 

यह अक्टूबर 2014 में, रेलवे ने सेवा शुरू करने के हेतु रेलवे सुरक्षा आयोग से सुरक्षा प्रमाणपत्र के लिए आवेदन किया था और जून 2015 में, रेलगाड़ी की आधिकारिक तौर पर घोषणा की गई थी और इसे रेलगाड़ी संख्या 12049/50 दी गयी यह रेलगाड़ी को 5 अप्रैल 2016 को शुरू किया गया।

 

 

यह रेलगाड़ी शुक्रवार को छोड़कर प्रत्येक दिन चलती है यात्रियों के मल्टीमीडिया मनोरंजन की मुफ्त सुविधा भी इसमें उपलब्ध है। ट्रेन के डिब्बों में हॉटस्पॉट उपकरण लगाये गये हैं जिससे यात्री अपने स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप पर सीधे इन सुविधाओं का निशुल्क लाभ उठा सकते हैं।

 

यात्रियों को उपमा, मिनी डोसा, कांजीवरम इडली, ताजे कटे हुए फल, आलू कुलचा, स्विस रोल, भुने हुए सूखे मेवे और चिकन रोल दिए जाते है।

 

गतिमान एक्सप्रेस कहां से कहां तक चलती है ? 

 

गतिमान एक्सप्रेस अपने आप में सबसे आधुनिक ट्रेन है  में जो दिल्ली और आगरा के बीच चलती है। यह 160 किमी प्रति घंटा (99 मील प्रति घंटा ) तक की गति से चलती है और फिलहाल भारत की सबसे तेज़ रेलगाड़ी है यह रेलगाड़ी एक तरफ जाने में 188 किलोमीटर दूरी तय करती है जिसमें 100 मिनट का समय लेती है।

 

 

यह एक्सप्रेस” ट्रेन निजामुद्दीन से सुबह 8:10 बजे रवाना होगी और 9:50 बजे आगरा पहुंचेगी। वहीं अगर आप को वापस आना है तो यह आगरा से शाम 5:50 बजे चलेगी और 7:30 बजे निजामुद्दीन पहुंचेगी। और यह आगरा छावनी व हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के बीच चलती है।

 

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक हम विमान की तरह अच्छी सेवा देने का प्रयास कर रहे हैं। विमान की तरह गतिमान में ट्रेन होस्टेस होंगी और इसमें कैटरिंग सर्विस भी एयरलाइंस की तरह होगी।

 

 

गतिमान एक्सप्रेस में खाने में क्या मिलता है ?

 

आपको बता दें कि भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस में भारतीय और महाद्वीपीय व्यंजन मिलेंगे। इसके मेन्यू में गेहूं का उपमा, मिनी डोसा, कांजीवरम इडली, फ्रेश फ्रूट्स, स्विस रोल के साथ आलू कुलचा, रोस्टेड ड्राई फ्रूट्स और चिकान रोल सर्व किया जाएगा। चिकेन सॉस के साथ स्पेनिश एग ऑमलेट और अखरोट स्लाइस केक बोन चाइना क्रॉकरी में सर्व किए जाएंगे।

 

भारतीय रेलवे का गठन सबसे पहले कब हुआ था ?

 

औपचारिक उद्घाटन समारोह का आयोजन 16 अप्रैल, 1853 को हुआ, जब लगभग 400 अतिथियों के  14 सवारी डिब्बों वाली रेलगाड़ी सायं 3.30 बजे “एक विशाल जनसमूह की करतल ध्वनि और 21 तोपों की सलामी के बीच बोरीबंदर से रवाना हुई।

 

प्रथम यात्री गाड़ी 15 अगस्त, 1854 को 24 मील की दूरी तय करते हुए हवड़ा से हुगली स्टेशनों के बीच चलाई गई। इस प्रकार, ईस्ट इंडियन रेलवे का पहला सेक्शन यात्री यातायात के लिए चालू हुआ, जिससे भारतीय उपमहाद्वीप के पूर्वी हिस्से में रेल यातायात की शुरुआत हुई।

 

 

भारत पहला विकासशील और विश्व का पांचवा ऐसा देश है, जिसने स्वेदश निर्मित अधुनातन; उच्च अश्व शक्ति  के तीन फेज़ वाले विद्युत इंजनों का निर्माण किया है, ऐसा प्रथम इंजन, चित्तरंजन रेल इंजन कारखाने (CLW) से निकला है।

 

स्वेदश में रेल इंजनों का निर्माण के क्षेत्र में चित्तरंजन रेल इंजन कारखाना निरंतर प्रगति कर रहा है और रेल इंजनों का लागत कम होकर 13.65 करोड़ रु. के स्तर पर आ गई है।

भारत के वर्तमान रेल मंत्री कौन है 2021?

 

पीयूष गोयल भारत के वर्तमान रेल मंत्री हैं।

 

भारत में रेलों के निर्माण और परिवहन को नियंत्रित करने वाला भारत सरकार का एक महत्वपूर्ण मंत्रालय है। भारतीय रेल का प्रभार इसी मंत्रालय के पास है। एक केबिनेट और दो राज्य मंत्रियों को मिलाकर रेलवे के पास कुल तीन मंत्री हैं।

 

भारतीय रेल का शीर्ष निकाय रेलवे बोर्ड, रेल मंत्रालय के आधीन आता है। रेलवे बोर्ड, एक अध्यक्ष और कई “रेलवे बोर्ड के सदस्य” द्वारा गठित होता है कई निदेशालय रेलवे बोर्ड के आधीन आते हैं। रेल मंत्रालय का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित रेल भवन है।

 

भारत के आम बजट से अलग, रेल बजट प्रस्तुत करता है। इस प्रथा की शुरुआत 1924 में हुई थी जिस समय देश के कुल बजट का 70% रेल बजट होता था आज भारत का रेल बजट भारत के राष्ट्रीय बजट का लगभग 15% है। रेल बजट के द्वारा नई रेल सेवाओं, किरायों और शुल्कों में परिवर्तन आदि की घोषणा की जाती है।

 

 

 

दोस्तो इस पोस्ट में आपको जानकारी मिल गई होगी की भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन कौन सी है और भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन का क्या नाम है इन सभी की जानकारी आपको इस पोस्ट के माध्यम से मिल गई  होगी यह जानकारी पसंद आई है तो इससे  मीडिया पर  शेयर करें ।

 

Popular Posts –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here